Nainital-Haldwani News

हल्द्वानी:रोक के बावजूद चालू है आइवरमैक्टिन दवाई का इस्तेमाल,पांच बच्चे बीमार


हल्द्वानी:रोक के बावजूद चालू है आइवरमैक्टिन दवाई का इस्तेमाल,पांच बच्चे बीमार

हल्द्वानी: स्वास्थ्य मंत्रालय ने जिस आइवरमैक्टिन दवाई पर रोक लगा रखी है, उस का इस्तेमाल अभी भी किया जा रहा है। जिस कारण सुशीला तिवारी राजकीय चिकित्सालय में आइवरमैक्टिन की ओवरडोज वाले बच्चे पहुंच रहे हैं। गौरतलब है कि अभी तक दवाई पर रोक हेतु लिखित निर्देश नहीं मिलने पर यह दवा बांटी जा रही है।

दरअसल यह दवा वितरण का काम जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा कोरोना संक्रमण के मद्देनज़र किया गया। लाजमी है कि वितरण के साथ दवाइयां लेने का तरीका भी बताया था। इसके अलावा बाल रोग विशेषज्ञ ने लोगों से बच्चों को सही डोज देने की बात कही थी। लेकिन खासकर ग्रामीणों में फिर भी सही जानकारी का अभाव रहा।

यह भी पढ़ें 👉  तेज बारिश का है अलर्ट,नैनीताल पुलिस ने सैलानियों से किया अनुरोध पहाडों की ओर नहीं जाए

जिस कारण कुछ बच्चों ने इस दवाई की ओवरडोज ली तो उनकी तबीयत बिगड़ गई। बता दें कि दवा की ओवरडोज लेने के बाद बच्चों में दौरा पड़ना, बेहोशी और उल्टी होने की शिकायतें बताई जा रही हैं। पिछले 15 दिन में पांच बच्चे इलाज के लिए सुशीला तिवारी अस्पताल पहुंचे हैं। इसमें से भिकियासैंण का चार वर्षीय बच्चा अभी भी अस्पताल में भर्ती है।

यह भी पढें: बनबसा निवासी कुशाग्र उप्रेती का वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया में चयन

यह भी पढें: मनीष कुमार सिंह बने हल्द्वानी के नए SDM, जिलाधिकारी गर्ब्याल ने किए दो तबादले

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: मौसम को लेकर अलर्ट जारी, 18 अक्टूबर को बंद रहेंगे जिले के सभी स्कूल

एसीएमओ डा. रश्मि पंत के मुताबिक लोगों को यह बताया था कि 15 साल से ऊपर के बच्चों को सुबह-शाम एक गोली, 10 से 14 साल के बच्चों को केवल एक गोली, 9 से 5 साल के बच्चों को डॉक्टर की सलाह पर दवा और इससे नीचे उम्र के बच्चों को दवा नहीं देनी है। यह भी कि गर्भवती, स्तनपान करने वाली महिलाओं को भी यह दवा नहीं लेनी है।

एसटीएच बाल रोग विभाग की विभागाध्यक्ष डा. नूतन सिंह ने बताया कि आइवरमैक्टिन के ओवरडोज वाले अब तक पांच बच्चे अस्पताल में आ चुके हैं। इनमें से चार स्वस्थ होकर घर चले गए हैं। बाकी बचा एक बच्चा भी रिकवर हो रहा है। उन्होंने कहा कि घर के सदस्यों को ध्यान रखना है कि दवा को बच्चों की पहुंच से दूर रखें। कुछ बच्चों में इलाज से देरी पर अधिक नुकसान भी हो सकता है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी संकल्प कोचिंग के बच्चों को दें बधाई, JEE एडवांस परीक्षा में 15 बच्चों को मिली कामयाबी

यह भी पढें: इंग्लैंड की धरती पर उत्तराखंड की स्नेह का कमाल,डेब्यू में झटके 4 विकेट

यह भी पढें: ऋषिकेश में बनेगी साढ़े छह किलोमीटर रोपवे,चारधाम यात्रा बस टर्मिनल से शुरू होगा सफर

यह भी पढें: CM तीरथ सिंह रावत का वादा, 2024 तक पहाड़ों पर चलने लगेंगी ट्रेनें

यह भी पढें: जय हो मां नयना देवी, डेढ़ महीने के बाद भक्तों के लिए खुले प्राचीन मंदिर के कपाट

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top