Nainital-Haldwani News

नैनीताल: दूध उत्पादन से गांव लौटे प्रवासियों को नसीब होगी रोजी रोटी,35 समितियां खोलने की तैयारी शुरू


नैनीताल: दूध उत्पादन से गांव लौटे प्रवासियों को नसीब होगी रोजी रोटी,35 समितियां खोलने की तैयारी शुरू

नैनीताल: कोरोना ने कुछ लोगों से सांसे ही छीन ली तो कुछ लोगों के पास से सांस लेने की वजह ही छीन ली। रोजी रोटी के संकट ने अनगिनत परिवारों को परेशानी में डाला है। नैनीताल के जो प्रवासी बाहर शहरों में गए थे, वे यहां लौट आए लेकिन क्या करें, इसका किसी को अंदाजा नहीं है। ऐसे में दुग्ध संघ की ओर से इन प्रवासियों को बड़ा मौका मिलने जा रहा है।

Ad

जी हां, दुग्ध संघ द्वारा एक योजना शुरू की जा रही है जिसके तहत नैनीताल जिले के गांवों में वापस लौटे प्रवासियों को डेयरी उत्पादन केंद्र से जोड़ा जाएगा। इसके लिए बकायदा काम भी शुरू कर दिया गया है। लिहाजा अगर ऐसा होता है तो कई परिवारों के घरों में दो वक्त की रोटी का बंदोबस्त होना आसान हो जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  "मेरी पत्नी को ही दे देते टिकट...", टिकट कटने के बाद रो पड़े भाजपा के विधायक - VIDEO

नैनीताल दुग्ध संघ, लालकुआं के अध्यक्ष मुकेश बोरा ने जानकारी दी और बताया कि प्रवासियों के लिए रोजगार खोजना जरूरी है। दुग्ध उत्पादन कार्य एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। डेयरी व पशुपालन विभाग के सहयोग से इस काम में अच्छी आय हो सकती है। इसके मद्देनजर नैनीताल दुग्ध संघ ने कुल 35 नई दुग्ध समितियां खोलने की योजना तैयार की है।

यह भी पढ़ें: हरिद्वार-देहरादून में बनेगा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट, दिल्ली के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में कोरोना Curfew की गाइडलाइन जारी, नए बदलावों पर डाले नजर

बता दें की इस योजना के लिए डेयरी विकास मंत्री रेखा आर्य ने भी वर्चुअल बैठक के दौरान निर्देश दिए हैं। नैनीताल दुग्ध संघ अध्यक्ष मुकेश बोरा ने गांवों की लिस्ट बताई। जिसमें देवीधुरा से सटे ढोलीगांव, कैड़ागांव, सुनकोट, जोस्यूड़ा, बारीकटना अथवा रीठा साहिब से लगे अमजड, मिडार, सुआकोट, पोखरी, पदमपुरी, अधोड़ा, डुंगरी आदि सीमांत क्षेत्र और चोरगलिया के पास के हरीशताल, गोनियारो, ल्वाडड़ोबा, चकडोबा आदि गांव शामिल हैं। इसके अलावा बेतालघाट के छूटे हुए क्षेत्रों में भी समितियां स्थापित की जानी हैं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी विधानसभा सीट पर बदले का रण...सुमित व जोगिंदर में किस के सिर सजेगा ताज ?

बता दें की पिछले साल भी लॉकडाउन के चलते बड़े शहरों जैसे महाराष्ट्र व दिल्ली से नैनीताल कई प्रवासी लौटे थे। तब भी कमाई पर खासा असर पड़ा था। अब इस बार फिर सभी को आजीविका छोड़कर वापस आना पड़ा। ऐसे में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच अब परदेसी गांव में ही रोजगार की तलाश में लगे हुए हैं। जिसके लिए दुग्ध संघ द्वारा योजना बनाई गई है।

यह भी पढ़ें 👉  पिता हरीश रावत को 2017 चुनावों में मिली हार का बदला लेने मैदान पर उतरेंगी बेटी अनुपमा रावत

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:गरूड़ के पंकज परिहार बने भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट,अब बदलेंगे दिन

यह भी पढ़ें: भावुक पल: चंपावत में बेटा कोरोना को हराकर घर लौटा तो मां ने तिलक लगाकर किया स्वागत

यह भी पढ़ें: कर्फ्यू में दिल्ली से देवभूमि पहुंच गई युवती,पुलिस ने रोका तो कहा तप्तकुंड से अमृत लेने आई हूं,पढ़ें रोचक कहानी

यह भी पढ़ें: तो ये होगा हल्द्वानी में बन रहे 500 बेड के नए अस्पताल का नाम, जनरल को होगी सच्ची श्रद्धांजलि

To Top