Champawat News

भावुक पल: चंपावत में बेटा कोरोना को हराकर घर लौटा तो मां ने तिलक लगाकर किया स्वागत


भावुक पल: चंपावत में बेटा कोरोना को हराकर घर लौटा तो मां ने तिलक लगाकर किया स्वागत
Ad
Ad

लोहाघाट: जंग लड़ना, उसे जीतना और सही सलामत वापिस आना, हमारे लिए शायद इतना महत्वपूर्ण नहीं होता, जितना हमारे घर परिवार वालों के लिए होता है। परिवार की इसी खुशी का नजारा बाराकोट ब्लॉक के खाल तोक के एक घर में देखने को मिला। पहले ये बता दें कि हम बात जंग की कर रहे हैं लेकिन यह जंग किसी मैदान पर नही बल्कि अस्पताल में लड़ी गई थी। इस लड़ाई में दुश्मन एक बीमारी थी।

Ad
Ad

जी हां, यहां कोरोना से जंग की बात हो रही है। दरअसल खाल तोक निवासी नागेंद्र जोशी जब कोरोना को हराकर घर लौटे तो मंजर देखने वाले थे। उनकी मां की आंखों में चमक सारी खुशियां बयान कर रही थी। मां ने आंखों में आसूं ले कर बेटे का तिलक लगा कर घर में स्वागत किया। 27 अप्रैल से खराब रही बेटे की तबीयत अब ठीक देखकर मां की जान में जान आई है।

दरअसल 27 अप्रैल को जब नागेंद्र को बुखार आया तो 30 अप्रैल को सीएचसी लोहाघाट में जांच कराई गई। इसके बाद दो मई को कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। लाजमी सी बात है सब डर गए थे। डर में इजाफा तब हुआ जब चार मई को तबीयत बिगड़ गई। इसके बाद उन्हें चंपावत के निजी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया।

यह भी पढ़ें 👉  फटी जींस वाले बयान पर कायम हैं पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत, बोले गर्व महसूस करता हूं...

यह भी पढ़ें: कोरोना हुआ कम तो चारधाम को लेकर मंथन शुरू,इन जिलों के लोगों मिल सकती है अनुमति

यह भी पढ़ें: कोरोना हुआ कम तो चारधाम को लेकर मंथन शुरू,इन जिलों के लोगों मिल सकती है अनुमति

यह भी पढ़ें 👉  फटी जींस वाले बयान पर कायम हैं पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत, बोले गर्व महसूस करता हूं...

फिर वहां से स्वस्थ होने के बाद 15 मई को उन्हें 14 दिन के होम क्वारंटाईन में भेज दिया गया। अब ये अवधि पूरी करने के बाद जब नागेंद्र स्वजनों के पास है तो देखकर हर कोई भावुक हो गया। मां ने घर के दरवाजे पर बेटे का टीका लगाकर स्वागत किया।

बताया जाता है कि बेटे की तबीयत काफी गंभीर हो गई थी। ऑक्सीजन लेवल तक नीचे आ गया था। लेकिन मां के विश्वास, हौसले और दुआओं ने सब ठीक कर दिया। उनकी आंखों में साफ आंसू देखे जा सकते थे। उन्होंने भगवान से प्रार्थना करते हुए कहा कि जल्द विश्व से कोरोना का संकट खत्म करें।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड के स्कूलों में मई नहीं जून से पड़ेंगी गर्मियों की छुट्टियां

यह भी पढ़ें: देहरादून: प्रेमी जिम ट्रेनर के साथ मिलकर पत्नी ने पति को उतारा मौत के घाट

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में 28923 सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई, 90 प्रतिशत के पास पहुंचा रिकवरी दर

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:सोमवार को होगा Curfew पर फैसला,कैबिनेट मंत्री ने दिया अपडेट

यह भी पढ़ें: कमाल की गेंदबाजी,इंग्लैंड काउंटी क्रिकेट में छाया कुमाऊं का मयंक मिश्रा

Join-WhatsApp-Group
Ad
Ad
Ad
Ad
To Top