Dehradun News

उत्तराखंड: किन्नरों को अलग पहचान देने वाला पहला जिला बन गया देहरादून


उत्तराखंड: किन्नरों को अलग पहचान देने वाला पहला जिला बन गया देहरादून

देहरादून: किन्नरों को एक अलग पहचान देने का सिलसिला प्रदेश में शुरू हो गया है। किन्नरों को पहचान पत्र (आइडी कार्ड) मुहैया कराने के मामले में देहरादून प्रदेश का पहला जिला बन गया है।

Ad

गौरतलब है कि किन्नरों को समाज में उपेक्षितों के तौर पर देखा जाता है। इसे बदलने के लिए समाज कल्याण विभाग ने शानदार पहल की है। जिसके तहत दो जिले के दो किन्नरों को पहचान पत्र जारी कर मुख्यधारा से जोड़ने का काम किया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  धारचूला की बिटिया ने बढ़ाया उत्तराखंड का मान, बैडमिंटन टूर्नामेंट में चैंपियन बनीं ऐश्वर्या मेहता

समाज कल्याण अधिकारी हेमलता पांडेय के मुताबिक जिलाधिकारी के प्रयासों से दो जनों को आइडी कार्ड दिए गए हैं। जिनमें विक्रम उर्फ काजल थापा और सुनील उर्फ अदिति शर्मा शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: टाटा मोटर्स पंतनगर को एंबुलेंस तैयार करने की मंजूरी मिली, कैबिनेट ने लिए बड़े फैसले

यह भी पढ़ें: नैनीताल में उमड़े सैलानी, होटलों में ऑन द स्पॉट बुकिंग शुरू

बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा ट्रांसजेंडर पर्सन्स एक्ट 2019 के क्रम में बनाए गए विशेष पोर्टल पर ट्रांसजेंडर को आईडी कार्ड के लिए आसानी से आवेदन कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होंगी उत्तराखंड की झांकियां,बाबा बद्री के दर्शन करेगी पूरी दुनिया

इसके अलावा ये भी सुविधा किन्नरों को दी जाएगी कि वह अपने मन मुताबिक पोर्टल पर नाम बदल सकते हैं। साथ ही बैंक से लोन ले कर रोजगार पाने में भी किन्नरों को इस पहचान पत्र से खासा मदद मिल सकेगी। सरकारी योजनाओं का लाभ भी आसानी से मिल सकेगा।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: भाजपा से निवर्तमान विधायक के बेटे को टिकट मिलने पर मेयर ने दिया इस्तीफा

यह भी पढ़ें: तिकोनिया चौराहे समेत हल्द्वानी की 14 सड़कें होंगी चकाचक, करोड़ों रुपए हुए हैं जारी

यह भी पढ़ें: CBSE रिजल्ट से असंतुष्ट छात्रों को अगस्त में मिलेगा परीक्षा देने का मौका

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड रोडवेज बसों की इनकम बढ़ाएंगे ट्रैफिक इंस्पेक्टर, सवारियां भरने में करेंगे मदद

यह भी पढ़ें: बरेली में मास्क नही लगाने पर बैंक ऑफ बड़ौदा के गार्ड ने ग्राहक को मारी गोली-वीडियो

To Top