Rudraprayag News

पहले प्रयास में वकील से जज बनीं देवभूमि की अंजलि बेंजवाल, लोग बोले SUPER MOM

पौड़ी: कहते हैं न कि दुनिया में कुछ अलग कर दिखाने के लिए हमेशा अनुकूल परिस्थितियों की जरूरत हो ऐसा जरूरी तो नहीं है। कुछ कर दिखाने का जज़्बा रखने वाले तो अक्सर प्रतिकूल को अनुकूल में बदलने का दम रखते हैं। ऐसे में उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले की अंजलि बेंजवाल अपने कारनामे के चलते राज्य की तमाम महिलाओं के लिए एक नया उदाहरण बन सामने आई हैं।

अभी हाल ही में उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने अपने उत्तराखंड पीसीएस जे (उच्च न्यायिक सेवा) परीक्षा के परिणामों की घोषणा की है। हमेशा की तरह इस बार भी परीक्षा परिणाम में राज्य की बेटियों का दबदबा रहा है। ऐसे में बेंजी गांव जिला रुद्रप्रयाग की बेटी अंजलि बेंजवाल ने प्रथम प्रयास में ही सफलता हासिल कर सम्पूर्ण राज्य में जिले एवं गांव का नाम रोशन कर दिखाया है। इन सब में अनोखी बात तो यह है कि अंजलि ने परीक्षा से कुछ समय पूर्व ही अपनी बच्ची को जन्म दिया था। इसके साथ ही साक्षात्कार देने के लिए अंजलि को अपनी एक माह की बिटिया को लेकर ठंड में नैनीताल भी जाना पड़ा था।

उल्लेखनीय है कि अंजलि ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली से प्राप्त की है और वर्तमान में वह उत्तराखंड हाईकोर्ट में अधिवक्ता के रूप में कार्यरत हैं। अंजलि के पिता कात्यायनी प्रसाद बेंजवाल कुछ समय पहले ही दिल्ली विश्वविद्यालय से सेवानिवृत्त हुए हैं। वहीं अंजलि के पति अतुल बहुगुणा भी उत्तराखंड हाईकोर्ट में अधिवक्ता के रूप में कार्यरत थे और वर्तमान में वे उत्तराखंड एवं केंद्र सरकार की ओर से स्थाई अधिवक्ता के रूप में सेवा दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड के अनुज रावत RCB के लिए खेलेंगे, विराट की टीम ने फिर से दिखाया भरोसा

जानकारी के अनुसार अंजलि का ससुराल पौड़ी जिले के बलोड़ी गांव में स्थित है। अंजलि की इस कामयाबी के चलते उनके रिश्तेदारों एवं परिवार के बीच खुशी का माहौल बना हुआ है और सभी उन्हें बधाई भी दे रहे हैं साथ ही सुपर मॉम भी कह रहे हैं। हलद्वानी लाइव की टीम भी अंजलि को बधाई देती है और साथ ही उनके उज्जवल भविष्य की कामना भी करती है।

To Top
Ad