Bageshwar News

उत्तराखंड: आधी रात को भूकंप से हिली धरती, घरों से बाहर आने को मजबूर हुए लोग


उत्तराखंड में फिर भूकंप से कांपी धरती, दो जिलों में महसूस किए गए झटके

बागेश्वर: प्रदेश के पहाड़ी इलाकों को भूकंप के लिहाज से संवेदनशील माना जाता है। इसकी पुष्टि भी समय समय पर होती रही है। एक बार फिर बीती रात भूकंप ने दस्तक दी है। बागेश्वर जिले में देर रात करीब 12 बजकर 34 मिनट में 4.3 मैग्नीट्यूड (रिक्टर स्केल) के भूकंप के झटके महसूस किए गए। केंद्र जोशीमठ से आया ये भूकंप लोगों को घर से बाहर निकलने पर मजबूर कर गया। आपदा प्रबंधन अधिकारी शिखा सुयाल ने बताया हल्का झटका आया था। जिससे कोई नुकसान नहीं हुआ है।

दरअसल उत्तराखंड में दैवीय आपदा अधिकतर देखने सुनने को मिलती रहती हैं। भूकंप के लिहाज से भी राज्य बहुत बेहतर स्थिति में नहीं है। भूगर्भीय दृष्टिकोण से उत्तराखंड को संवेदनशील जगहों में गिना जाता है। वैसे भी हिमालयी क्षेत्र में इंडो-यूरेशियन प्लेट की टकराहट के चलते जमीन के भीतर से ऊर्जा बाहर निकलती रहती है। जिस कारण भूकंप आना स्वाभाविक है।

यह भी पढ़ें 👉  यात्रियों की टेंशन खत्म, हल्द्वानी से नैनीताल के लिए रोडवेज बस सेवा शुरू

लिहाजा उत्तराखंड में भूकंप का इतिहास उठाकर देखें तो अंदाजा लगता है कि वाकई हमारी देवभूमि इसे लेकर काफी संवेदनशील है। आंकड़े बताते हैं कि पिछले एक साल के भीतर 9 बार भूकंप के झटके महसूस किए जा चुके हैं। उत्तराखंड भूकंप के अति संवेदनशील जोन पांच व संवेदनशील जोन चार में आता है। विशेषज्ञों की मानें तो यहां भूकंप को लेकर काफी सावधान रहने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें 👉  टी-20 विश्वकप में भारत की हार के बाद उत्तराखंड में क्रिकेट फैंस ने तोड़ा TV, वीडियो हुआ वायरल

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में रविवार को 38062 कोरोना सैंपल नेगेटिव आए

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में चल रही है इंग्लैंड में इतिहास रचने की तैयारी

अति संवेदनशील जोन पांच में आने वाले जिले

1. रुद्रप्रयाग (अधिकांश भाग)

2. बागेश्वर

3. पिथौरागढ़

4. चमोली

5. उत्तरकाशी

संवेदनशील जोन चार में आने वाले जिले

1. ऊधमसिंहनगर

2. नैनीताल

3. चंपावत

4. हरिद्वार

5. पौड़ी

6. अल्मोड़ा

नोट: देहरादून व टिहरी दोनों जोन में आते हैं।

वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. सुशील कुमार ने बताया कि यह भूकंप राज्य के अति संवेदनशील जोन पांच में आया है। जिससे यह साफ होता है कि भूगर्भ में तनाव की स्थिति बनी हुई है। पिछले रिकॉर्ड भी देखें तो अति संवेदनशील जिलों में ही सबसे अधिक भूकंप रिकॉर्ड किए गए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  धनतेरस पर हल्द्वानी शहर को बनाया जाएगा जीरो जोन, कुछ ऐसा होगा ट्रैफिक प्लान

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:पीले राशन कार्ड धारकों के लिए योजना लागू, तीन महीने मिलेगा राशन

यह भी पढ़ें: नैनीताल: सरकारी अस्पतालों में अब से नहीं होगा टीकाकरण, जिले के नए केंद्रों पर डालें नज़र

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में ठगी, 15 हजार दें, बिना लाइन में लगे लगवाएं वैक्सीन

यह भी पढ़ें: नैनीताल SSP के ऑफिस में तैनात महिला ASI को अज्ञात वाहन ने कुचला, मौत से मचा कोहराम

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top