हल्द्वानी में होटलों को कोविड अस्पताल बनाने की तैयारी,DM गर्ब्याल ने दिए निर्देश

0
874

नैनीताल: कोरोना प्रसार ने लोगों के बीच एक बार फिर हंगामा शुरू कर दिया है। शासन-प्रशासन की रातों की नींदें उड़ गई हैं। मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ते ही जा रही है। अस्पताल भी लगातार भर रहे हैं। माहौल इतना भयावह है कि हर स्तर पर लगातार कड़े फैसले लिए जा रहे हैं।

उत्तराखंड में अबतक आए कोरोना संक्रमण के मामलों के लिहाज से मंगलवार काफी खराब रहा। इस दिन (पिछले 24 घंटों की रिपोर्ट के अनुसार) 1925 केस सामने आए। बता दें कि इससे पहले सर्वाधिक आंकड़े (2078) पिछले साल सितंबर में आए थे।

लिहाजा नैनीताल में भी हालात नियंत्रण से बाहर हो रहे हैं। जहां एक तरफ विद्यालयों के खुलने पर 30 अप्रैल तक रोक लगा दी है। वहीं अब होटलों में फिर से कोविड-19 मरीजों को भर्ती करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

यह भी पढ़ें: नैनीताल जिले में स्कूल आज से रहेंगे बंद, डीएम ने जारी किया आदेश

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में कोरोना वायरस के सभी रिकॉर्ड टूटे, सामने आए 1925 केस

नैनीताल जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल के अनुसार कोरोना की रोकथाम के लिए ज़रूरी प्रयास किए जा रहे हैं। इसके लिए अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। हल्द्वानी के मोटाहल्दू, मोतीनगर तथा गौलापार का बागजाला व मिनी स्टेडियम बद्रीपुरा में कोविड केयर सेंटर तैयार हो चुके हैं। तैयारी अंतिम चरण में है।

साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि पहले से चिन्हित होटलों को भी अधिग्रहित किया जाएगा। इसके लिए अधिकारियों को अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी करने के निर्देश दिए गए हैं। बता दें कि पहले तक हल्द्वानी में रॉयल विंडसर, मल्लिका, सत्यार्थ, के-11, रिलैक्स इन, सौरभ कैंडी व शिवालय होटल को अधिग्रहित किया गया था। जिसमें मरीजों को अपनी जेब से भुगतान करना होता था।

यह भी पढ़ें: सिडकुल फाइबर फैक्ट्री आग, गोदाम में मिला लापता श्रमिक का कंकाल

यह भी पढ़ें: पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का नया ऑफिस खुला तो सियासी गलियारे में शुरू हुई चर्चा

कोरोना की वर्तमान स्थिति यह देख कर पता लगाई जा सकती है कि सुशीला तिवारी अस्पताल में ही भर्ती संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 127 पहुंच गया है। जिसमें 25 मरीजों के घायल होने की जानकारी मिली है। जिले में 1007 तो प्रदेश में कुल सक्रिय मामलों की संख्या 9000 से पार हो गई है। जिन्हें सरकारी अस्पतालों समेत निजी अस्पतालों व कोविड केयर सेंटर में भर्ती किया गया है।

डीएम गर्ब्याल ने साफ कहा कि लोगों में जांच कराने को लेकर लापरवाही दिख रही है। उन्होंने कहा कि सभी को कोविड-19 के नियमों की पालना भी अच्छे से करनी चाहिए। डीएम ने महामारी की रोकथाम के लिए कांटेक्ट ट्रेसिंग के आदेश भी दिए हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह की प्रक्रिया का सख्ती से पालन होगा तभी कोरोना को रोक सकने में कामयाबी मिल सकेगी।

यह भी पढ़ें: कार में ले जा रहे थे 80 लाख रुपए का जिंदा जीव, हल्द्वानी पुलिस ने रास्ते से छह को दबोचा

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस का बढ़ा प्रकोप, सरकार ने इन 14 प्राइवेट अस्‍पतालों को पूरी तरह से कोव‍िड अस्‍पताल बनाया

Advertisement: EduMount International School

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here