Almora News

नहीं रहे जिला महिला अस्पताल के प्रभारी CMS,कोरोना के चलते सुशीला तिवारी अस्पताल में तोड़ा दम


हल्द्वानी: सुशीला तिवारी अस्पताल इस वक्त कुमाऊं का मुख्य अस्पताल बन गया है। कोरोना के बढ़ने से पिछले साल की ही तरह इस साल भी अस्पताल पर काफी दबाव पड़ रहा है। इसी अस्पताल से दुख की खबर आई है। अल्मोड़ा जिला महिला अस्पताल के प्रभारी CMS डॉ. दीपक गर्ब्याल ने कोरोना के इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है। बता दें कि वे खुद पिछले साल से लगातार कोरोना मरीजों की सेवा में लगे हुए थे।

बीते तीन सालों से अल्मोड़ा जिले के महिला जिला अस्पताल में प्रभारी सीएमएस के पद पर ड्यूटी निभा रहे डॉ. दीपक गर्ब्याल मूल रूप से धारचूला के रहने वाले थे। बीती 17 अप्रैल को उन्होंने अपनी बेटी की शादी धारचूला में ही संपन्न कराई। मगर शादी के बाद ही उनकी तबीयत में अचानक गिरावट आने लगी। जिसके बाद वे इलाज के लिए हल्द्वानी आ गए।

यह भी पढ़ें: कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज का बड़ा बयान,कुमाऊं में शुरू होंगे तीन ऑक्सीजन प्लांट

यह भी पढ़ें: फिर खस्ता हुई परिवहन निगम की हालत, डिपो के पास नहीं डीजल तक के रुपए

यह भी पढ़ें: पूर्व सीएम त्रिवेंद्र बोले कोरोना को भी जीने का अधिकार,सोशल मीडिया पर आई मीम की बाढ

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड पुलिस को सलाम,प्लाज्मा देकर SSP दलीप सिंह कुंवर ने बचाई दो जिंदगी

डॉ. दीपक गर्ब्याल को कोरोना के लक्षण लगने शुरू हुए तो उन्होंने टेस्ट कराया। जिसका डर था वही हुआ, डॉक्टर कोरोना संक्रमित पाए गए। इसके बाद कुछ समय तक उनका इलाज हल्द्वानी के ही निजी अस्पताल में चला। मगर तबीयत में सुधार नहीं हुआ तो उन्हें सुशीला तिवारी अस्पताल में वेंटिलेटर पर रखा गया। लेकिन जिंदगी और मौत की इस जंग में डॉ. दीपक हार गए। उन्होंने गुरुवार को अंतिम सांस ली।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में 10वीं पास युवाओं की भी लगेगी पोस्ट ऑफिस में नौकरी, तुरंत करें आवेदन

अल्मोड़ा जिला महिला अस्पताल की प्रभारी सीएमएस डॉ. प्रीति पंत का कहना है कि पिछले तीन सालों से प्रभारी सीएमएस के पद पर तैनात डॉ. दीपक अस्पताल के प्रशासनिक कार्यों के साथ ही ऑपरेशन से लेकर प्रसव के दौरान भी काफी अहम भुमिका निभाते थे। उम्र और बीते एक साल में बढ़े दबाव के बावजूद वे महिलाओं को किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होने देने के संकल्प की ओर काम कर रहे थे। गुरुवार दोपहर निधन की खबर मिलते ही अस्पताल से जुड़ा हर कोई शोकाकुल में डूब गया। बता दें कि अस्पताल के कर्मियों समेत अधिकारियों व चिकित्सकों ने गहरा दुख व्यक्त किया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में कोरोना Curfew 14 दिन बढ़ाया गया, बाजार रात 9 बजे बंद होगा

यह भी पढ़ें: अब यहां नहीं लगेगी वैक्सीन, टीका लगवाने से पहले डालें हल्द्वानी के नए केंद्रों पर नज़र

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: RTPCR टेस्ट के लिए वसूले अधिक रुपए,एक और लैब के खिलाफ केस दर्ज

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी में बेवजह घूमने वालों को सबक सिखाएगी Curfew एक्सप्रेस

यह भी पढ़ें: युवाओं के लिए खुशखबरी, SBI ने निकाली हज़ारों पदों पर बंपर भर्तियां, फौरन करें आवेदन

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top