HomeNational Newsभारत सरकार के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचा WhatsApp, कहा संविधान के खिलाफ हैं...

भारत सरकार के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचा WhatsApp, कहा संविधान के खिलाफ हैं नए नियम

नई दिल्ली: भारत सरकार और तमाम बड़े सोशल मीडिया कंपनियों के बीच में पेंच फंसा हुआ दिख रहा है। व्हाट्सएप ने भारत सरकार के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में शिकायत की है। इस शिकायत में भारत सरकार द्वारा बुधवार को जारी होने वाले नए कायदे कानूनों को ना लागू करने की मांग व्हाट्सएप ने की है। व्हाट्सएप का कहना है कि यह नियम फॉलो करने से संविधान के गोपनीयता के अधिकार का उल्लंघन होगा।

दरअसल भारतीय सरकार ने नए नियमों के तहत फेसबुक के मालिकाना हक वाली कंपनी को कथित तौर पर प्राइवेसी रूल्स से पीछे हटने को कहा है। व्हाट्सएप की माने तो नए कानून के मुताबिक सरकार की मांग पर सोशल मीडिया कंपनियों को किसी सूचना को सबसे पहले साझा करने वाले की पहचान कर बतानी है। जो कि वह नहीं कर सकते।

व्हाट्सएप के मुताबिक उन्होंने साल 2016 में ‘एंड-टू-एंड’ एन्क्रिप्शन की शुरुआत की थी, ताकि उसके जरिए किए जाने वाले कॉल, मेसेज, फोटो, वीडियो और वॉइस नोट सिर्फ उसी को मिलें जिन्हें वे भेजे गए हैं। वॉट्सऐप का दावा है कि ये संदेश वह भी नहीं पढ़ या देख सकते हैं। ऐसे में नए नियम का पालन करने के लिए उसे मेसेज प्राप्त करने वालों के लिए और मेसेज को सबसे पहले शेयर करने वालों के लिए इस एन्क्रिप्शन को ब्रेक करना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:आक्सीजन की आपूर्ति को लेकर भारत सरकार ने दी अहम स्वीकृति

यह भी पढ़ें: अन्तरर्राज्यीय एवं जनपदीय यात्रा के लिए उत्तराखंड परिवहन निगम ने जारी की गाइडलाइन

वॉट्सऐप ने अपने FAQ पेज पर भी इस बारे में जानकारी दी है। हालांकि, वहां किसी देश विशेष को लेकर नहीं लिखा गया है लेकिन वॉट्सऐप ने इसी मामले को लेकर भारत सरकार पर केस दर्ज किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कोर्ट इस याचिका पर कब सुनवाई करेगी, यह नहीं पता। बहरहाल इधर, मामले के जानकारों ने इसकी संवेदनशीलता को देखते हुए अपनी पहचान जाहिर करने से भी इनकार कर दिया है। वॉट्सऐप प्रवक्ता ने भी इस मसले पर कोई बयान नहीं दिया।

वॉट्सऐप ने कहा है कि उसे ‘ट्रेसेबिलिटी’ करने को कह रही हैं। कंपनी का कहना है कि ट्रेसेबिलिटी का अर्थ कोई संदेश असल में सबसे पहले किसने भेजा, ये पता लगाना है। मगर ट्रेसेबिलिटी से ‘एंड-टू-एंड’ एन्क्रिप्शन ब्रेक होता है और इससे अरबों लोगों की प्राइवेसी खतरे में पड़ती है। लिहाजा मामला गर्म होता जा रहा है। यह केस भारत सरकार के फेसबुक, ट्विटर सहित अन्य सोशल मीडिया कंपनियों के साथ जारी टकराव को और बढ़ा सकता है।

यह भी पढ़ें: कोटाबाग में शादी के दिन संक्रमित निकली दुल्हन,लहंगे की जगह पहननी पड़ी PPE किट

यह भी पढ़ें: नैनीताल जिले में बुजुर्गों को चिन्हित कर लगाई जाएगी वैक्सीन

यह भी पढ़ें: हादसे का शिकार हुआ हल्द्वानी निवासी युवा सागर,इलाज के लिए चाहिए आप सभी का साथ,मदद करें

यह भी पढ़ें: नैनीताल जिले में बुजुर्गों को चिन्हित कर लगाई जाएगी वैक्सीन

Advertisements

Ad - EduMount School
Ad - Kissan Bhog Atta

Connect With Us

Be the first one to get all the latest news updates!
👉 Join our WhatsApp Group 
👉 Join our Telegram Group 
👉 Like our Facebook page 
👉 Follow us on Instagram 
👉 Subscribe our YouTube Channel 

अंततः अपने क्षेत्र की खबरें पाने के लिए हमारे इस नंबर 7532982134 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

RELATED ARTICLES

Most Popular

Advertisements

Ad - ABM School
Ad - EduMont School
Ad - Kissan Atta
Ad - Extreme Force Gym
Ad - SRS Cricket Academy
Ad - Haldwani Cricketers Club