National News

भारत सरकार के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचा WhatsApp, कहा संविधान के खिलाफ हैं नए नियम


भारत सरकार के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचा WhatsApp, कहा संविधान के खिलाफ हैं नए नियम

नई दिल्ली: भारत सरकार और तमाम बड़े सोशल मीडिया कंपनियों के बीच में पेंच फंसा हुआ दिख रहा है। व्हाट्सएप ने भारत सरकार के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में शिकायत की है। इस शिकायत में भारत सरकार द्वारा बुधवार को जारी होने वाले नए कायदे कानूनों को ना लागू करने की मांग व्हाट्सएप ने की है। व्हाट्सएप का कहना है कि यह नियम फॉलो करने से संविधान के गोपनीयता के अधिकार का उल्लंघन होगा।

दरअसल भारतीय सरकार ने नए नियमों के तहत फेसबुक के मालिकाना हक वाली कंपनी को कथित तौर पर प्राइवेसी रूल्स से पीछे हटने को कहा है। व्हाट्सएप की माने तो नए कानून के मुताबिक सरकार की मांग पर सोशल मीडिया कंपनियों को किसी सूचना को सबसे पहले साझा करने वाले की पहचान कर बतानी है। जो कि वह नहीं कर सकते।

व्हाट्सएप के मुताबिक उन्होंने साल 2016 में ‘एंड-टू-एंड’ एन्क्रिप्शन की शुरुआत की थी, ताकि उसके जरिए किए जाने वाले कॉल, मेसेज, फोटो, वीडियो और वॉइस नोट सिर्फ उसी को मिलें जिन्हें वे भेजे गए हैं। वॉट्सऐप का दावा है कि ये संदेश वह भी नहीं पढ़ या देख सकते हैं। ऐसे में नए नियम का पालन करने के लिए उसे मेसेज प्राप्त करने वालों के लिए और मेसेज को सबसे पहले शेयर करने वालों के लिए इस एन्क्रिप्शन को ब्रेक करना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:आक्सीजन की आपूर्ति को लेकर भारत सरकार ने दी अहम स्वीकृति

यह भी पढ़ें: अन्तरर्राज्यीय एवं जनपदीय यात्रा के लिए उत्तराखंड परिवहन निगम ने जारी की गाइडलाइन

वॉट्सऐप ने अपने FAQ पेज पर भी इस बारे में जानकारी दी है। हालांकि, वहां किसी देश विशेष को लेकर नहीं लिखा गया है लेकिन वॉट्सऐप ने इसी मामले को लेकर भारत सरकार पर केस दर्ज किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कोर्ट इस याचिका पर कब सुनवाई करेगी, यह नहीं पता। बहरहाल इधर, मामले के जानकारों ने इसकी संवेदनशीलता को देखते हुए अपनी पहचान जाहिर करने से भी इनकार कर दिया है। वॉट्सऐप प्रवक्ता ने भी इस मसले पर कोई बयान नहीं दिया।

वॉट्सऐप ने कहा है कि उसे ‘ट्रेसेबिलिटी’ करने को कह रही हैं। कंपनी का कहना है कि ट्रेसेबिलिटी का अर्थ कोई संदेश असल में सबसे पहले किसने भेजा, ये पता लगाना है। मगर ट्रेसेबिलिटी से ‘एंड-टू-एंड’ एन्क्रिप्शन ब्रेक होता है और इससे अरबों लोगों की प्राइवेसी खतरे में पड़ती है। लिहाजा मामला गर्म होता जा रहा है। यह केस भारत सरकार के फेसबुक, ट्विटर सहित अन्य सोशल मीडिया कंपनियों के साथ जारी टकराव को और बढ़ा सकता है।

यह भी पढ़ें: कोटाबाग में शादी के दिन संक्रमित निकली दुल्हन,लहंगे की जगह पहननी पड़ी PPE किट

यह भी पढ़ें: नैनीताल जिले में बुजुर्गों को चिन्हित कर लगाई जाएगी वैक्सीन

यह भी पढ़ें: हादसे का शिकार हुआ हल्द्वानी निवासी युवा सागर,इलाज के लिए चाहिए आप सभी का साथ,मदद करें

यह भी पढ़ें: नैनीताल जिले में बुजुर्गों को चिन्हित कर लगाई जाएगी वैक्सीन

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top