Chamoli News

उत्तराखंड: कृष्णा रावत को बधाई दें, सेना में शामिल हुआ छोटे से गांव के किसान का बेटा



गैरसैंण: जिनमें कुछ कर गुजरने का जज्बा होता है, वे बहाने नहीं बनाया करते हैं। चाहे लाख मुश्किलें आएं, रास्ते में जीत बिल्कुल ना दिखाई दे रही हो, लेकिन ये युवा लगातार आगे बढ़कर अपनी कामयाबी का परचम जरूर लहराते हैं। देवभूमि के युवाओं में यह गुण खासतौर पर पाए जाते हैं। देशसेवा के लिए सेना में भर्ती होने का एक और उदाहरण गैरसैण ब्लॉक से सामने आया है। कृष्णा रावत ने भारतीय सेना में शामिल हो कर अपने परिवार समेत पूरे इलाके को गौरवान्वित किया है। एक किसान पिता के लिए अपने बेटे की यह उपलब्धि देखना वाकई बहुत खुशनुमा है। माता पिता गर्व और खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं।

सन 1999 में जन्मे कृष्णा रावत के पिता पिता सुरेंद्र सिंह रावत एक किसान हैं। बेटे की आठवीं तक की पढ़ाई दूरस्थ खनसर घाटी के कंडारीखोड गांव में पूरी होने के बाद वह अपने परिवार समेत गैरसैंण आ गए। जहां से कृष्णा रावत ने राजकीय इंटर कॉलेज से इंटरमीडिएट की पढाई पूरी की। बता दें कि कृष्णा रावत बचपन से ही पढ़ाई में होशियार रहे। उन्हें 12वीं में 87 फ़ीसदी अंक प्राप्त हुए थे। बहरहाल इसके बाद वे रुड़की आ गए। रुड़की में जब कृष्णा ने कैंट एरिया में सैनिकों की परेड देखना शुरू किया तो मन में भारतीय सेना की वर्दी पहन देश सेवा करने का ख्वाब बुनना शुरू हो गया।

यह भी पढ़ें 👉  होमगार्ड्स ने सीएम धामी को स्कूल के दिनों की दिलाई याद, स्थापना दिवस पर कर डाली पुरस्कार की घोषणा

यह भी पढ़ें: भारत में दर्ज हुई कोरोना वैक्सीन के कारण पहली मौत, केंद्र ने की पुष्टि

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: रुद्रपुर में दिन दहाड़े मचा हड़कंप, विवाद के चलते दो सगे भाइयों को गोलियों से भून डाला

यह भी पढ़ें 👉  चालकों की मनमानी से यात्री परेशान, उत्तराखंड रोडवेज अब वेतन से काटेगा 5 हजार रुपए,जानें

इसके बाद कृष्णा ने 2016 में एनडीए की परीक्षा दी मगर वह उत्तीर्ण नहीं हो सके। लेकिन मेहनत का नतीजा साल 2017 में मिला। इस बार कृष्णा ने परीक्षा क्लियर कर 17 जुलाई को ओटीए में ज्वाइन किया। जहां पर उन्होंने एक साल तक बेसिक ट्रेनिंग पूरी की। इसके बाद वह टेक्निकल ट्रेनिंग के लिए वे एमएलटीई मऊ में गए। पिछले तीन साल से कृष्णा रावत यहीं मेहनत कर रहे थे। बहरहाल अब परिवार के तमाम संघर्षों और अपने हौसले, मेहनत के बलबूते वह एमएलटीई सैन्य अकादमी मऊ से पास आउट होकर सेना में शामिल हो गए हैं।

इस उपलब्धि पर समूचा इलाका खुशी मना रहा है। कृष्णा ने अपनी कामयाबी का श्रेय पिता और अपनी मां शांति देवी के साथ अपने गुरुजनों को भी दिया है। बता दें कि कृष्णा के पिता सुरेंद्र सिंह रावत एक किसान हैं और उनकी गांव में छोटी सी दुकान भी है। उनकी मां शांति देवी आंगनबाड़ी में सहायिका का काम कर रही हैं। ऐसे ही देवभूमि के युवा लगातार प्रदेश का नाम रौशन कर रहे हैं। उम्मीद है कि ये सिलसिला यूं ही चलता रहेगा।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में फिर खुला सरकारी नौकरी का पिटारा, डिग्री कॉलेजों में 455 पदों पर भर्ती, आवेदन करें

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: DM गर्ब्याल ने जारी की गाइडलाइन, अब हर दिन नियमित रूप से खुलेंगी ये दुकानें, पूरा पढ़ें

यह भी पढ़ें: अजीब: पाकिस्तान में मुफ्त में बर्गर नहीं देने पर पुलिस ने रेस्त्रां के पूरे स्टाफ को किया गिरफ्तार, जानें मामला

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: गोदमु गांव के पूर्व प्रधान ने खुद को मारी गोली,आर्थिक स्थिति बनी वजह!

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी लालकुआं पुलिस की बड़ी कार्रवाई, जंगल से अवैध हथियारों के साथ पकड़े तीन युवक

Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School
Ad
Ad

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top