Pithoragarh News

उत्तराखंड:संक्रमित के अंतिम संस्कार पर निकला ग्रामीणों का गुस्सा,टीम पर किया पथराव


उत्तराखंड:संक्रमित के अंतिम संस्कार पर निकला ग्रामीणों का गुस्सा,टीम पर किया पथराव,बुलानी पड़ी पुलिस

पिथौरागढ़: समय का पहिया अजीबो गरीब तरह से घूमता है। एक पहले का समय था जहां अंतिम संस्कार समारोह में भीड़ लग जाती थी। वहीं अब इस कोरोना काल में परिवारजन तक तक संक्रमित की अंत्येष्टि में शामिल होने से झिझक रहे हैं। यहां क्षेत्र में बड़े ही दुखद घटना ने अंजाम लिया है। कोरोना संक्रमण से जान गंवाने वाले ग्रामीण के अंतिम संस्कार पर गांववालों ने हंगामा करते हुए पथराव तक कर दिया। जिसके बाद शवदाह को गई टीम को पुलिस बुलानी पड़ी।

दरअसल जिले के तीतरी गांव में कोरोना से संक्रमित एक वृद्ध की मौत हो गई। अब इसके बाद मृतक के शव को गांव के नजदीक स्थित काली नदी के पास लाया गया। यहां इसलिए क्योंकि इस जगह को प्रशासन द्वारा कोरोना संक्रमितों के अंतिम संस्कार के लिए चिन्हित किया हुआ है। चूंकि कोरोना संक्रमित व्यक्ति के शव का संस्कार आम तौर की तरह नहीं हो सकता। इसलिए अलग जगह बनाई गई है।

यह भी पढ़ें 👉  विदेशों से उत्तराखंड आए करीब 110 यात्री नहीं हो रहे ट्रेस, स्वास्थ्य विभाग के फूले हाथ पांव

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड बोर्ड परीक्षाओं को लेकर आया अपडेट,कुछ इस तरह का है सरकार का प्लान

यह भी पढ़ें: जरूरतमंदो के साथ खड़ा है प्रेमनगर आश्रम,400 भोजन किटों को रवाना किया गया

यह भी पढ़ें 👉  100 करोड़ रुपए से साफ होगा नैनीताल...देश में पहली बार ऑनलाइन सिस्टम से होगा काम

अब हुआ यह कि प्रोटोकॉल के तहत शव को चिन्हित जगह पर ले जाया गया। मगर इसे देख ग्रामीण भड़क उठे। उन्होंने शवदाह करने से रोक दिया। इतने में मृतक के स्वजनों ने राजस्व टीम को सूचित किया। जिसके बाद टीम शवदाह स्थल पर पहुंच गई। टीम मौके पर पहुंची तो भड़के ग्रामीणों ने पथराव शुरू कर दिया। इस दौरान हाथापाई भी हुई।

ग्रामीणों का कहना था कि गांव के नजदीक संक्रमित शवों के अंतिम संस्कार करने से संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। बहरहाल ग्रामीणों के गुस्से को देखते हुए तहसीलदार मनीषा बिष्ट ने अस्कोट थाने से पुलिस को बुलवाया। जिसके बाद पुलिस की मौजूदगी में ही अंतिम संस्कार किया गया।

यह भी पढ़ें 👉  सीएम धामी ने ओखलकाण्डा को दी करोड़ों की सौगात, मोटर मार्ग और स्कूलों की बदलेगी तस्वीर

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:पीढ़ियों को सीख देगी निकिता ढौंढियाल की कहानी, सेना की वर्दी पहनेंगी शहीद मेजर विभूति की पत्नी

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में फरिश्ते से कम नहीं अभिनेता राघव जुयाल का संघर्ष,अब अल्मोड़ा पहुंचकर की लोगों की मदद

यह भी पढ़ें: डिजिटल होने की राह पर उत्तराखंड पुलिस,टैबलेट से मिलेगी केस सॉल्व करने में मदद

यह भी पढ़ें: शहर में रहने के बाद भी देवभूमि को नहीं भूली लेखक अद्वैता काला,शुरू किया प्रोजेक्ट भुल्ली

Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School
Ad
Ad

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top