गर्व के पल, भारतीय सेना में कैप्टन बनी भीमताल निवासी डॉ. अनुज्ञा सेंगर

Photo-Facebook

भीमताल: देवभूमि के युवाओं में कुछ ऐसी बात तो ज़रूर है जो इन्हें अलग बनाती है। चाहे वह किसी भी तरह करें, लेकिन यहां के युवा भारतीय सेना में शामिल होकर देश सेवा करने को सबसे बड़ा फर्ज मानते हैं। इस बार भीमताल निवासी एक बेटी ने जिले का नाम रौशन किया है। डॉ. अनुज्ञा सेंगर भारतीय सेना में कैप्टन बन गई हैं।

नगर पंचायत भीमताल वार्ड नंबर 9 मेहरागांव में रह रही डॉक्टर अनुज्ञा सेंगर भारतीय सेना में चुनी गई हैं। उनका चयन कैप्टन के रूप में सेना के मेडिकल फोर्स (एएमसी) में हुआ है। जानकारी के अनुसार यह जिम्मेदारी से भरा पद डॉ. अनुज्ञा सेंगर इसी महीने से संभालना शुरू करेंगी। डॉ सेंगर की इस उपलब्धि से पूरा क्षेत्र खुशनुमा वातावरण में प्रवेश कर चुका है।

डॉ. अनुज्ञा सेंगर की शिक्षा की बात करें तो उन्होंने शुरुआती पढ़ाई तो डीपीएस बसंत कुंज से पूरी की है। इसके बाद डॉक्टर बनने के ख्याल ने उन्हें एमबीबीएस की डिग्री लेने के सपने दिखाए। एमबीबीएस की पढ़ाई डॉ. अनुज्ञा ने श्री राममूर्ति मेडिकल कॉलेज बरेली से पूरी की है। बता दें कि कोर्स के फाइनल ईयर में उन्होंने द्वितीय रैंक हासिल की।

खुद डॉक्टर के तौर पर सक्रिय और अब सेना में कैप्टन बनी अनुज्ञा सेंगर का परिवार भी पढ़ाई लिखाई के मामले में काफी आगे है। डॉ. अनुज्ञा के के दादा भी भारतीय सेना में अधिकारी थी। वहीं उनकी माता मनीषा चौहान सेंगर दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रोफेसर तो पिता रविंदर सेंगर एक कंपनी में सहायक महाप्रबंधक हैं। बहरहाल डॉ. अनुज्ञा के सेना में चुने जाने पर क्षेत्र के हर घर में जश्न का माहौल है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: शादी के बाद ससुराल पहुंची नई नवेली दुल्हन की मौत

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: मुश्किल वक्त में भी कालाबाजारी, 900 का फ्लोमीटर 9 हजार में बेचने वाले दो गिरफ्तार

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: निरीक्षण के लिए सरकारी अस्पताल पहुंचे DM तो मिली कमियां, लिया एक्शन

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में सब ठीक हो जाएगा, हर जिले में बनेंगे प्लाज्मा बैंक, Whatsapp के जरिए होगी मदद

यह भी पढ़ें: राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी फिर बने देवभूमि का सहारा, कोरोना से लड़ाई के लिए दिए पचास लाख रुपए

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड पहुंची वैक्सीन की नई खेप, दो लाख डोज आने के बाद भी खत्म नहीं हुआ इंतज़ार

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड का सतुईया गांव,एक ऐसा गांव जहां अबतक नहीं पहुंच सका कोरोना,गांववालों ने बताए कारण

यह भी पढ़ें: आरासल्पड़:किशोरी की पहचान उजागर करने वालों के खिलाफ केस दर्ज,वीडियो देखें

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: कोरोना Curfew पर नया अपडेट, 6 मई तक रहेगा लागू

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड मेडिकल बुलेटिन: दो दिन में 6279 लोगों ने कोरोना वायरस को हराया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *